होम्योपैथिक औषधियों से रीढ़ की बीमारियों(Spinal Disease) का इलाज करें

होम्योपैथिक औषधियों से रीढ़ की बीमारियों(Spinal Disease) का इलाज करें | Dr. Vaseem Choudhary

रीढ़ दर्द पूरी दुनिया में पाई जाने वाली एक समस्या है।  यह समस्या कम उम्र में भी काफी पाई जाती है। महिलाओं का कमर दर्द एक समीकरण बन गया है। हालाँकि पीठ  दर्द की समस्या इतनी व्यापक है कि इसे गंभीरता से नहीं लिया जाता है। अगर पीठ में दर्द हो तो घरमे इलाज किया  जाता है, लेकीन कभी कभी एक साधारण से दिखने वाले पीठ दर्द  गंभीर दर्द मे  बदल जाता  है।  और रीढ़ की हड्डी के रोग उत्पन्न होते हैं। 

रीढ़ की बीमारी के कारण(Cause of Spinal Disease) 

विशेषज्ञों का कहना है कि गलत तरीके से बैठने का तरीका, दोषपूर्ण जीवनशैली के कारण इस बीमारी का खतरा हो जाता  हैं। पीठ दर्द एक ही स्थिति में बहुत देर तक बैठे रहने या तनाव – अक्सर मानसिक तनाव – के कारण होता है। पीठ के निचले हिस्से में दर्द 20 से 40 वर्ष की आयु वर्ग में सबसे आम है। यह दर्द पीठ, पीठ के निचले हिस्से या जांघों में होता है। इस प्रकार के दर्द को ठीक होने में 4 से 5 सप्ताह का समय लगता है। अगर ऐसी जगह पर घाव हो जाए तो उसे ठीक होने में 12 से 36 घंटे का समय लगता है।

पीठ दर्द के लिए होम्योपैथिक दवाएं(Homeopathic Medicines For Back Pain)

कुछ दवाएं जो पीठ दर्द के इलाज में प्रभावी हैं, वे डॉक्टरकी सलाह से ले।

  1. रस टॉक्सरस टॉक्स इस  दर्द के इलाज के लिए एक उपयोगी  दवा है। जब  पीठ दर्द अत्यधिक तनाव या अधिक खिंचाव के कारण मांसपेशियों में खिंचाव या भारी वजन उठाने से उत्पन्न होता है, आराम करने पर यह बढ़ जाता है तब  रस टॉक्स दवा उपयुक्त है।
  2. ब्रायोनिया अल्बा – ब्रायोनिया अल्बा पीठ दर्द के इलाज के लिए उपयुक्त  दवा है, जो झुकने और खड़े होने पर अधिक गंभीर हो जाता है तब दी जाती है ।
  3. एस्कुलस हिप्पोकैस्टेनम – यह दर्द पीठ के साथ-साथ कूल्हे तक भी बढ़ सकता है। चलने और झुकने से दर्द बढ़ जाता है। बैठने की स्थिति से उठना एक चुनौती है। पीठ दर्द के लिए एक प्रमुख दवा है। 
  4. काली कार्ब – प्रसव के बाद महिलाओं में होने वाले कमर दर्द के लिए काली कार्ब काफी असरदार माना जाता है। 
  5. सिमिसिफुगा रेसमोसा और गुआयाकम ऑफिसिनेल – गर्दन क्षेत्र में पीठ दर्द के लिए प्र्भावी है , ग्रीवा पीठ और कंधों में अकड़न,  दर्द, गर्दन दर्द के इलाज के लिए सबसे प्रभावी हैं ।
  6. अर्निका मोंटाना और हाइपरिकम पेरफोराटम – चोट से उत्पन्न पीठ दर्द के इलाज के लिए, अर्निका मोंटाना और हाइपरिकम पेरफोराटम को सबसे अच्छे उपचार माना जाता है। अर्निका मोंटाना की आवश्यकता वाले व्यक्तियों को पीठ में चोट लगने जैसा दर्द होता है, पीठ में लंगड़ापन शामिल हो सकता है। हाइपरिकम पेरफोराटम के उपयोगअत्यधिक संवेदनशीलता के साथ पीठ में दर्द जिससे चलना या झुकना असंभव हो जाता है। हाइपरिकम पेरफोराटम कोक्सीक्स पर गिरने से उत्पन्न होने वाले कोक्सीक्स दर्द (कोक्सीडिनिया) के लिए सबसे महत्वपूर्ण दवा है।

होम्योपैथिक किसीभी उम्र मे ली जा सकती है l  कोई भी होम्योपैथिक दवाएं लेनेसे पहले डॉक्टरसे सलाह अवश्य ले l 

होमियो केयर क्लिनिक

डॉ. वसीम चौधरी अपनी टीम के साथ विभिन्न विकारों के कई रोगियों का सफलतापूर्वक इलाज किया है। डॉ. वसीम चौधरी पुणे के एक प्रसिद्ध होम्योपैथ और सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी चिकित्सक हैं। उन्होंने अपनी विशेषज्ञ टीम के साथ होमियो केयर क्लिनिक शुरू किया है। होम्योपैथी क्लीनिक की यह श्रृंखला पूरे पुणे में फैली हुई है। इसमें विविध क्षेत्रों के विशेषज्ञ डॉक्टर इलाज करते हैं। यदि आप अधिक जानकारी चाहते हैं, तो आज ही पुणे में केंद्र मे भेट दे सकते है l