डेंगू की रोकथाम के लिए होम्योपैथिक दवाएं

डेंगू की रोकथाम के लिए होम्योपैथिक दवाएं | Dr. Vaseem Choudhary

बरसात का मौसम जितना आनंद देता है उसके साथ  कई  बीमारियो  का कारण भी बन जाता है l मानसून के दौरान होने वाले रोग जैसे सामान्य बुखार सर्दी खांसी, मच्छरों के कारण संक्रमण डेंगू ,मलेरिया ,चिकनगुनिया साथ मे पाचन तंत्र में संक्रमण हो सकता है l मच्छर अपने अंडे सड़क के फुटपाथों में एकत्रित दूषित पानी में, या घरेलू बगीचों में, बर्तनों के नीचे रखी ट्रे में रखते हैं, और उनकी कई प्रजातियाँ पैदा करते हैं। डेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया जैसी गंभीर बीमारियां हमारे लिए सौगात बनकर आती हैं। और अगर नजरअंदाज किया जाए तो तेज बुखार, ठंड लगना, मांसपेशियों में कमजोरी, दर्द जानलेवा हो सकता है। डेंगू एक वायरल संक्रमण है जो शरीर में रक्त में प्लेटलेट्स के स्तर को कम करके रक्त के थक्का बनाने के गुण को प्रभावित करता है। होम्योपैथी में मानसून की बीमारी और डेंगू बुखार का इलाज है आइए आज के लेख में इसके बारे में जानते हैं।

डेंगू की रोकथाम के लिए होम्योपैथिक दवाएं

  1. यूफोरिटियम परफोलीयह होम्योपैथिक दवा डेंगू के उन मरीजों को दी जाती है जिन्हें तेज सिरदर्द और आंखों में दर्द होता है। साथ ही कई मरीजों को सूर्यास्त के बाद यानी शाम और रात के बाद जुकाम हो जाता है और खांसी ज्यादा होती है। हालांकि अंगों में दर्द और हड्डियों में दर्द जैसे लक्षण होते हैं तो भी रोगी को आराम मिल जाता है।
  2. बेल्लादोन्नापेट में मरोड़, गर्दन में दर्द और सांस लेने में तकलीफ होने पर यह दवा लाभकारी होती है।
  3. नक्स वोमिकाजिन रोगियों में सर्दी, गले में खराश, खांसी, सिर दर्द, मसूढ़ों में सूजन जैसे लक्षण होते हैं उनके लिए यह कारगर औषधि है।
  4. ब्रायोनियाब्रायोनिया एक होम्योपैथिक दवा है जो डेंगू के मरीजों के लिए काफी कारगर है। बुखार, मांसपेशियों में दर्द, चिड़चिड़ापन, तेज सिरदर्द, आंखों में दर्द होने पर इससे बहुत फर्क पड़ता है।
  5. कैलकेरिया कार्बोनिकायह दवा तब प्रभावी होती है जब डेंगू के रोगी को बुखार के साथ दाने या छोटे छाले हो जाते हैं। इसके अलावा यह तेज सर्दी, गले में सूजन, सीने में भारीपन, तेज थकान जैसे लक्षणों में भी कारगर औषधि के रूप में काम करता है।

होम्योपैथी दवाएं बिना किसी साइड इफेक्ट के काम करती हैं। इसलिए ये दवाएं बहुत छोटे बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक को दी जाती हैं। बरसात के मौसम में सबसे ज्यादा बीमारियां फैलती हैं, जिससे यह बेहद चिंताजनक मौसम बन जाता है। मानसून रोग के किसी भी लक्षण के इलाज में होम्योपैथिक दवाएं बहुत प्रभावी होती हैं। इसलिए किसी होम्योपैथिक विशेषज्ञ से सलाह लें।

होमियो केयर क्लिनिक:

डॉ. वसीम चौधरी अपनी टीम के साथ विभिन्न विकारों के कई रोगियों का सफलतापूर्वक इलाज किया है। डॉ. वसीम चौधरी पुणे के एक प्रसिद्ध होम्योपैथ और सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथी चिकित्सक हैं। उन्होंने अपनी विशेषज्ञ टीम के साथ होमियो केयर क्लिनिक शुरू किया है। होम्योपैथी क्लीनिक की यह श्रृंखला पूरे पुणे में फैली हुई है। इसमें विविध क्षेत्रों के विशेषज्ञ डॉक्टर इलाज करते हैं। यदि आप अधिक जानकारी चाहते हैं, तो आज ही पुणे में केंद्र मे भेट दे सकते है l